Ticker

6/recent/ticker-posts

HTML Ka Full Form - HTML Kya Hai (हिंदी में)

हैल्लो दोस्तों उम्मीद करता हूं कि आप सभी लोग अच्छे होंगे, हमारे आज के इस आर्टिकल का टाइटल HTML Ka Full Form है।

आज इस आर्टिकल में हम आपको HTML से संबंधित बहुत से प्रकार की जानकारियां देने वाले हैं। 

दोस्तों अगर आपको Hyper Text Markup Language (HTML) से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी को प्राप्त करना है तो आप हमारे इस आर्टिकल को पूरा पढ़े। 


HTML Ka Full Form :- 


html Ka full form


HTML का फुल फॉर्म (पूरा नाम) "Hyper Text Markup Language"  होता है। 

Hyper Text Markup Language को ही हम शॉर्टकट भाषा में HTML कहते हैं। 

HTML Kya Hai :-


Html एक मार्कअप लैंग्वेज होती हैं, Html एक ऐसी लैंग्वेज होती है जिसका प्रयोग हम web pages बनाने के लिए करते हैं। 

HTML की सहायता से हम बहुत से प्रकार के वेब पेजेज को क्रिएट कर सकते हैं।

Html एक ऐसी लैंग्वेज है जो केवल उसी कंप्यूटर पर रन करती है जिस पर एकदम ब्राउज़र जैसे इंटरनेट एक्सप्लोरर, फायर- फॉक्स या क्रोम इत्यादि इंस्टॉल होते हैं।

Hyper text markup language (html) एक प्लेटफॉर्म इंडिपेंडेंट और आर्किटेक्चर न्यूट्रल लैंग्वेज है, अतः इसे किसी भी हार्डवेयर आर्किटेक्चर और किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ रन किया जा सकता है। 

HTML का विकास :- 


Html को टिम बर्नर्स ली (Tim Berners Lee) के द्वारा सन 1990 के दशक के प्रारंभ में स्विट्जरलैंड में वर्ल्ड वाइड वेब पर वेब पेजेज को प्रकाशित करने के लिए विकसित किया गया था। 

HTML के संस्करण :-

Html के विभिन्न संस्करण निम्नलिखित है। 

  1. HTML का पहला प्रमाणित संस्करण HTML 2.0 था।इसको इंटरनेट इंजीनियरिंग टास्क फोर्स के संरक्षण में सन 1994 में विकसित किया गया था इस संस्करण में नेटस्केप और माइक्रोसाफ्ट के कुछ एक्सटेंशन उपलब्ध नहीं थे और या टेबल और एलाइन एट्रीब्यूट्स को भी सपोर्ट नहीं करता था। 
  2. सन 1995 में डेव रागेट के महात्मा गांधी प्रयास के रूप में एसडीएम के फीचर्स और सुविधाओं का अपग्रेडेड संस्करण HTML 3 विकसित हुआ। यद्यपि यह कभी पूर्ण और प्रयोग नहीं हुआ फिर भी इसमें अनेक फीचर को जोड़ा गया है इसकी अधिकारिक संस्करण को HTML 3.2 के नाम से जाना जाता हैं। 
  3. यह HTML का नया आधिकारिक संस्करण हैं - HTML 3.2। इसमें टेबल, इमेजेस, हेडिंग्स और अन्य एलिमेंट्स के लिए एलाइन एट्रीब्यूट्स को जोड़ा गया है। यह वर्तमान में एक सार्वभौमिक बाढ़ नाम है और सभी वेब ब्राउज़र द्वारा समझी जाती है। फिर भी इसमें नेटस्केप और माइक्रोसॉफ्ट के कुछ एक्सटेंशन जैसे - FRAMEs,EMBED और एप्लेट आदि उपलब्ध नहीं थे। इसके लिए आवश्यक सपोर्ट HTML के नए संस्करण HTML 4.0 में उपलब्ध कराया गया हैं। 
  4. HTML का वर्तमान आधिकारिक मानक HTML 4.01 हैं। इसमें अनेक एक्सटेंशन के सपोर्ट उपलब्ध है साथ ही अतिरिक्त फीचर जैसे अंतरराष्ट्रीयकृत डाक्यूमेंट्स, कैस्केडिंग स्टाइल शीट्स (css),  अतिरिक्त टेबल, फॉर्म और जावास्क्रिप्ट  एनहैंसमेंट के लिए भी सपोर्ट उपलब्ध है।

HTML एलीमेंट्स :- 


html ka full form


प्रत्येक HTML डॉक्यूमेंट के एलिमेंट्स 3 मूल भागों से निर्मित होते हैं। 

  1. ओपनिंग टैग।
  2. एलिमेंट का कंटेंट। 
  3. क्लोजिंग टैग। 

ओपनिंग टैग (opening tag) :- 


इसको हम प्रारंभिक टैग भी किसे कहते हैं। प्रारंभिक टैग टेक्स्ट से संबंधित किसी फीचर को ऑन (on) अर्थात प्रभावी करता है। 

क्लोज़िंग टैग (clossing tag) :- 


इसको हम समापन टैग भी कहते हैं। क्लोजिंग टैग टेक्स्ट से संबंधित किसी फीचर को ऑफ करता है। 

क्लोज़िंग टैग के पहले एक स्लैश (/) का निशान लगाया जाता हैं। 

एलीमेंट का कंटेंट :- 


ओपनिंग टैग और क्लोजिंग टैग  के साथ एक एलिमेंट का निर्माण करते हैं।

नोट :- 


HTML टैग्स, HTML के निर्देश होते हैं, जिन्हे एंगल ब्रैकेट्स (<>) के अंदर लिखा जाता हैं और ये केस - सेंसिटिव नहीं होते हैं इसलिए हम इन्हे अंग्रेजी के बड़े अक्षरों या छोटे अक्षरों या दोनों के मिश्रित स्वरूप में लिख सकते हैं।

उदाहरण :- 

<html>
<head>
<title>
html ka full form
</title>
</head>
</html>


आज आपने क्या सीखा :- 


आज इस आर्टिकल html ka full form को पढ़कर हमने HTML से सम्बंधित बहुत से प्रकार की जानकारी को प्राप्त किया। 
इस आर्टिकल में हमने html ka full form, html kya hai, html का विकास, html के संस्करण  तथा html के एट्रीब्यूट्स के बारे जानकारी प्राप्त की।


उम्मीद करता हूँ दोस्तों हमारा ये आर्टिकल html ka full form आपको जरूर पसंद आया होगा और हमारे इस आर्टिकल को पढ़कर आपको जरूर कुछ नया सीखने को मिला होगा। 

दोस्तों हमारा ये आर्टिकल html ka full form आपको अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों ke साथ भी शेयर करें (धन्यवाद)


Post a Comment

0 Comments