Ticker

6/recent/ticker-posts

PG का फुल फॉर्म | Top 10 PG Medical College

PG Full Form, PG Full Form in Hindi, PG Ka Full Form, PG का पूरा नाम, PG क्या हैं, PG का मतलब, PG क्या होता होता हैं, PG का अर्थ, ऐसे प्रश्नों के उत्तर आपको इस आर्टिकल के अंदर मिल जाएंगे। 

क्या आप पीजी का फुल फॉर्म या पीजी से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी के लिए इस ब्लॉग पर आए हैं, यदि आप पीजी से संबंधित जानकारी के लिए इस ब्लॉग पर आए हैं तो आप सही जगह आ गए हैं। 

आज इस आर्टिकल में हम पीजी से संबंधित बहुत सी जानकारियों को देने वाले हैं बस आप हमारे इस आर्टिकल को पूरा पढ़े। 

मैं वादा करता हूं हमारे इस आर्टिकल को पढ़कर आपके मन में पीजी से संबंधित जितने भी प्रश्न होंगे आपको उन सारे प्रश्नों के उत्तर मिल जाएंगे, आइए शुरू करते हैं और इसके बारे में डिटेल्स में जानते हैं- 


pg full form, pg full form in hindi, pg ka full form, pg

PG Full Form :-

जब आप हाई स्कूल या इंटर में होते हैं तो आगे की पढ़ाई करने के लिए आपने UG तथा PG के बारे में अवश्य ही सुना होगा, लेकिन क्या आप जानते हैं कि UG तथा PG क्या है तथा इसका फुल फॉर्म क्या होता है? 

दोस्तों ये दोनों एक डिग्री कोर्स हैं जिसे हम हिंदी में स्नातक तथा स्नातकोत्तर के नाम से जानते हैं, इस कोर्स को आप 12वीं के बाद ही कर सकते हो। 



PG Ka Full Form :-

PG का फुल फॉर्म "Post Graduate" होता हैं जिसे हम अपनी भाषा में 'पोस्ट ग्रेजुएट' कहते हैं। 

  • P - Post 
  • G - Graduate 

पोस्ट ग्रेजुएट या पीजी एक डिग्री होती हैं जिसे आप स्नातक की डिग्री के बाद ही कर सकते हैं, PG का एक अन्य फुल फॉर्म 'Paying Guest' भी होता हैं।



PG Full Form in Hindi :-

दोस्तों अबतक आपको पता चल गया होगा की PG का फुल फॉर्म "Post Graduate" होता हैं। Post Graduate को हम हिंदी भाषा में 'पोस्ट ग्रेजुएट' ही कहते हैं।

  • P - Post (पोस्ट)
  • G - Graduate (ग्रेजुएट)



PG का अर्थ :-

दोस्तों ऊपर दी गई जानकारी को पढ़कर अब तक आप को पता चल गया होगा कि PG का फुल फॉर्म पोस्ट ग्रेजुएट (Post Graduate) होता हैं।

Post Graduate का हिंदी अर्थ 'स्नातकोत्तर' होता हैं।


PG क्या हैं (What is PG in Hindi) :-

Post Graduate (PG) एक Master Degree Course होता हैं, Post Graduate (PG) को हम स्नातकोत्तर भी कहते हैं, पोस्ट ग्रेजुएशन एक ऐसा कोर्स होता है जिसे आप ग्रेजुएशन कंप्लीट करने के बाद ही कर सकते है.

पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री की समय अवधि 2 साल की होती है अर्थात PG कोर्स 2 साल का कोर्स होता है। PG कोर्स के अंतर्गत आने वाले कोर्सेज को मास्टर्स कोर्स कहा जाता हैं जैसे Master of Arts (M.A), Master of Science (MSc), Master of Commerce (M.Com) etc एक मास्टर्स कोर्स ही हैं। 

भारत में पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री प्रदान करने वाले बहुत से विश्वविद्यालय तथा संस्थान मौजूद हैं, PG कोर्स की समय अवधि 2 साल की होती हैं तथा इसमें 4 सेमेस्टर होते हैं। 



PG कोर्स की समय-अवधि (Time-Duration) :-

Post Graduate अर्थात PG कोर्स की समयावधि 2 साल की होती हैं, 2 साल के कोर्स में प्रशिक्षण, क्षेत्र कार्य तथा क्रेडिट आवश्यकताओं के आधार पर PG कोर्स के कार्यक्रमों को मुख्य रूप से 4 सेमेस्टर में विभाजित किया गया हैं।


PG डिग्री के लिये योग्यता :-

भारत में ऐसे बहुत से विश्वविद्यालय तथा संस्थान मौजूद हैं जहाँ से आप Post Graduation (PG) का कोर्स कर सकते हैं। 

Post Graduation अर्थात PG करने के लिये आपको पहले ग्रेजुएशन अर्थात स्नातक  में पास होना अनिवार्य होता हैं, यदि आपके पास स्नातक की डिग्री हैं तभी आप स्नातकोत्तर कर सकते हैं अन्यथा नहीं। 

भारत में कई प्रकार के पीजी पाठयक्रम हैं जिनके लिये अलग-अलग प्रकार की योग्यताएं मांगी जाती हैं परंतु ज्यादातर पाठ्यक्रमों के लिए स्नातक की ही डिग्री जाती है। 



स्नातकोत्तर डिग्री के प्रकार : Typs of Post Graduate Degree (PG) :-

स्नातकोत्तर डिग्री में मुख्य चार पाठ्यक्रम, अनुसन्धान डिग्री, रूपांतरण पाठ्यक्रम तथा पेशेवर योग्यताएं सिखायी जाती हैं। 

इन सभी पाठ्यक्रमों को विश्वविद्यालय में पढ़ाए जाते हैं लेकिन कुछ पाठ्यक्रम को एक व्यवसायिक वातावरण में सिखाया जाता हैं। 



1. Taught Courses :-

मास्टर डिग्री तथा स्नातकोत्तर डिप्लोमा इसके दो मुख्य सिखाए गए पाठ्यक्रम है। 

यह कोर्स हमारे स्नातक की डिग्री के बराबर ही होता है जिसमें हमें एक विषय के बारे में जानकारी दी जाती है और उसके बारे में हमें सिखाया जाता है, इसमें आप जो सीखते हैं उसका मूल्यांकन किया जाता है। 

प्लेसमेंट, परियोजनाओं, अनुसंधान परियोजनाओं तथा शोध प्रबंध सहित पाठ्यक्रमों में अन्य पहलू भी हो सकते हैं। 


2. रूपांतरण पाठ्यक्रम (Conversion Courses) :- 

रूपांतरण पाठ्यक्रम को हम क्रैश पाठ्यक्रमों के नाम से भी जानते हैं। 

ये एक गहन लक्षण हैं, इसमें आपको किसी ऐसे विषय में गति देने के लिए तैयार किया जाता है जिसके बारे में आप पहले ही अध्ययन कर चुके हुए होते हैं। 

इस कोर्स के माध्यम से किसी व्यक्ति को एक विशिष्ट व्यवसाय के लिए तैयार किया जाता हैं। 


3. अनुसंधान डिग्री (Research Degrees) :-

अनुसन्धान डिग्री को हमेशा डॉक्टरेक्ट के लिये ही जाना जाता हैं, कुछ मुख्य प्रकार के डॉक्टरेक्ट हैं: DPhils, PHD, एकीकृत PHD, पेशेवर डॉक्टरेट etc. 


4. व्यावसायिक योग्यता :-

व्यावासविक योग्यता वो हैं जो अक्सर ही व्यवहारिक प्रशिक्षण के एक तत्व को शामिल करते हैं।

ये पाठ्यक्रम के किसी विशेष उद्योग से जुड़े होते हैं तथा एक विशेष करियर पथ के लिए प्रासंगिक कौशल को सुधारने तथा विकसित करने में हमारी सहायता के लिये डिजाइन किया गये होते हैं। 



PG डिग्री किन-किन विषयों से होती है :-

दोस्तों वैसे तो PG डिग्री को हम कई प्रकार के विषयों से कर सकते हैं अर्थात PG डिग्री को बहुत से विषयों से किया जा सकता हैं। 

पीजी डिग्री को बहुत से विषयों से किया जा सकता है परंतु यह इस बात पर निर्भर करता है कि छात्र ने Under Graduate (UG) डिग्री किस विषय से की है। 

अगर किसी छात्र ने Under Graduate (UG) डिग्री को आर्ट्स विषय से किया हैं तो उसे Post Graduate (PG) की डिग्री भी आर्ट के ही किसी सब्जेक्ट से करनी होती है, इसी प्रकार से यदि छात्र ने अपना ग्रेजुएशन साइंस या कॉमर्स सब्जेक्ट से किया है तो आपको पोस्ट ग्रेजुएशन भी साइंस या कॉमर्स सब्जेक्ट से ही करना होता है। 

पोस्ट ग्रेजुएशन (Post Graduation) डिग्री जिन विषयों से होती है उनके नाम इस प्रकार से हैं- 

  • Hindi 
  • English
  • Math 
  • Chemistry
  • History
  • Physics
  • Economics
  • Geography
  • Yoga
  • Zoology
  • Psychology

ऊपर दिए गए विषयों में से किसी भी विषय से छात्र 2 साल की समय-अवधि में पीजी डिग्री को कर सकता है।

इन सभी विषयों में से आपकी जिस विषय में रुचि हो पहले आप उस विषय से अपना अंडर ग्रेजुएट (UG) अर्थात ग्रेजुएशन कंप्लीट करें तथा उसके बाद आप उसी विषय से पोस्ट ग्रेजुएशन (PG) डिग्री को भी कर सकते हैं। 



प्रमुख पीजी कोर्स (Top PG Courses) :-

कुछ प्रमुख पीजी कोर्सेज के नाम इस प्रकार से हैं- 

  • Master of Arts
  • Master of Law
  • Master of Fine Arts
  • Master of Commerce
  • Master of Engineering
  • Master of Health Science
  • Master of Human Resources Management
  • Master of Business Administration
  • Master of Tourism Administration
  • Master of Labour Management
  • Master of Library Science
  • Master of Communication & Journalism etc.



PG डिग्री कहां से कर सकते हैं :-

PG डिग्री को आप किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज से आसानी से कर सकते हैं, अगर आप पीजी डिग्री को किसी यूनिवर्सिटी से करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको उस यूनिवर्सिटी द्वारा करायी जाने वाली प्रवेश परीक्षा को पास करना होता है।

कुछ यूनिवर्सिटी में केवल प्रवेश परीक्षाएं ही होती है परंतु कुछ यूनिवर्सिटी में प्रवेश परीक्षा के बाद इंटरव्यू भी होता है जिसमें पास होना बहुत ही आवश्यक होता है।

इसके अलावा यदि आप बिना कोई प्रवेश परीक्षा तथा इंटरव्यू दिए पीजी डिग्री को करना चाहते हैं तो इसके लिए आप किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज से पीजी डिग्री को कर सकते हैं, वहां पर आपको किसी भी प्रकार की प्रवेश परीक्षा तथा इंटरव्यू नहीं देना पड़ेगा।



TOP 10 PG Medical College :-

इंडिया के कुछ प्रमुख पीजी medical कॉलेजों के नाम इस प्रकार से हैं- 

  • Armed Forces Medical College (AFMC), Pune
  • Christian Medical College (CMC), Vellore
  • Institute of Medical Sciences, Banaras Hindu University, Varanasi
  • Kasturba Medical College, Mangalore
  • King George's Medical University, Lucknow
  • At John's Medical College, Bangalore
  • Grant Medical College, Mumbai
  • Dayanand Medical College and Hospital, Ludhiana
  • BJ Government Medical College, Pune



PG करने के बाद जॉब के अवसर :-

पोस्ट ग्रेजुएशन कम्पलीट करने के बाद आप सरकारी क्षेत्र तथा प्राइवेट क्षेत्र में जॉब प्राप्त कर सकते हैं, पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद सरकारी क्षेत्र में आप\आप इस तरह की जॉब प्राप्त कर सकते हैं। 

  • रक्षा
  • बैंकिंग क्षेत्र
  • चिकित्सा क्षेत्र
  • शिक्षण क्षेत्र आदि। 
इन सबके अलावा और भी बहुत से ऐसे क्षेत्र हैं जहां पर आप जॉब प्राप्त कर सकते हैं। 



UG Ka Full Form :-

UG का फुल फार्म "Under Graduate" होता है, अंडर ग्रेजुएट कोर्स को हम 12वीं के बाद ही कर सकते हैं।

Under Graduate कोर्स 3 साल का होता है, अंडर ग्रेजुएट कोर्स के अंतर्गत बीए, बीएससी, बीटेक आदि जैसे डिग्री कोर्स आते हैं। इस 3 साल के कोर्स को कर लेने के बाद छात्र ग्रेजुएट हो जाते हैं तथा उनको ग्रेजुएट छात्र कहा जाता है। 



UG तथा PG में अंतर :-

UG तथा PG में जो अंतर हैं वो निम्न प्रकार से हैं- 

  • UG का फुल फॉर्म Under Graduate तथा PG का फुल फॉर्म Post Graduate होता हैं। 
  • अंडर ग्रेजुएट कोर्स को हिंदी में स्नातक तथा पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स को हिंदी में स्नातकोत्तर कहा जाता है। 
  • UG को अंडर ग्रेजुएशन या बैचलर डिग्री कहते हैं तथा PG को पोस्ट ग्रेजुएशन या मास्टर डिग्री कहते हैं। 
  • UG कोर्स को 12वीं के बाद किया जाता है तथा PG कोर्स को UG कोर्स के कंप्लीट होने के बाद किया जाता है। 
  • UG कोर्स की समय अवधि 3/4  साल की होती है जबकि PG कोर्स की समय अवधि 2/ साल की होती है। 
  • UG कोर्स के अंतर्गत बीए, बीएससी, बीटेक इत्यादि जैसे कोर्स आते हैं तथा PG कोर्स के अंदर एमए, एमएससी तथा पीएचडी जैसे कोर्स आते हैं। 



FAQ :-

Qus 1: पीजी में कौन कौन से कोर्स आते हैं?

Ans: PG कोर्स के अंतर्गत आने वाले कोर्सेज को मास्टर्स कोर्स कहा जाता हैं जैसे Master of Arts (M.A), Master of Science (MSc), Master of Commerce (M.Com) etc एक मास्टर्स कोर्स ही हैं।

Qus 2: पीजी या पीजी का मतलब क्या होता है?

Ans: Post Graduate या पीजी का हिंदी अर्थ या मतलब 'स्नातकोत्तर' होता हैं। 

Qus 3: पीजी कोर्स क्या है?

Ans: Post Graduate (PG) एक Master Degree Course होता हैं, Post Graduate (PG) को हम स्नातकोत्तर भी कहते हैं, पोस्ट ग्रेजुएट या पीजी एक डिग्री होती हैं जिसे आप स्नातक की डिग्री के बाद ही कर सकते हैं।

Qus 4: PG करने के लिए कितने परसेंट चाहिए?

Ans: PG करने के लिए विद्यार्थी का एलएलबी 50 परसेंट अंक के साथ उत्तीर्ण होना चाहिए।

Qus 5: पीजी के बाद होता है?

Ans: पोस्ट ग्रेजुएशन कम्पलीट करने के बाद आप सरकारी क्षेत्र तथा प्राइवेट क्षेत्र में जॉब प्राप्त कर सकते हैं, पीजी के बाद आप रक्षा, बैंकिंग क्षेत्र, चिकित्सा क्षेत्र, शिक्षण क्षेत्र आदि क्षेत्र में जॉब प्राप्त कर सकते हैं।


आज आपने क्या सीखा :- 

आज इस आर्टिकल में हमने PG से संबंधित बहुत सी प्रकार की जानकारियों को प्राप्त किया, इस आर्टिकल में हमने PG Full form, PG Ka Full Form, PG Full Form in Hindi, PG क्या हैं, PG करने के लिये योग्यता, TOP 10 PG Medical College, PG के बाद जॉब तथा इसके अलावा PG से सम्बंधित और भी बहुत सी जानकारियों को प्राप्त किया।

दोस्तों आपको हमारा यह PG से सम्बंधित आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट के द्वारा जरुर बताये और यदि इस आर्टिकल से सम्बंधित आपके मन में कोई भी प्रश्न हैं वह भी कमेंट के द्वारा जरुर बताये।

उम्मीद करता हूं दोस्तों हमारे इस आर्टिकल को पढ़कर आपके मन में PG से संबंधित जितने भी प्रश्न रहे होंगे आपको उन सारे प्रश्नों के उत्तर मिल गए होंगे।

दोस्तों आपको यह आर्टिकल pg full form कैसा लगा कमेंट के द्वारा जरूर बताएं और यदि इस आर्टिकल से संबंधित आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो हमें कमेंट के द्वारा जरूर बताएं।

यदि आप  इस PG से संबंधित आर्टिकल पर कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट के माध्यम से अवश्य बताएं, मुझे आपके फीडबैक का बेसब्री से इंतजार रहेगा।

अगर आपको यह जानकारी पसंद आयी हो तो इसे अपने मित्रों के साथ तथा सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर शेयर करना ना भूले। 
इस ब्लॉग पर हम रोजाना इसी तरह की जानकारी से भरी एक पोस्ट को पब्लिश करते हैं, इसी प्रकार की जानकारियों को पाने के लिए इस ब्लॉग www.hindima.in पर रोजाना विजिट करते रहें (धन्यवाद)

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ